Sunday, July 25, 2021
Home प्रेरणा IIM से MBA करने के बाद अंकिता ने शुरु किया डेयरी फ़ार्म...

IIM से MBA करने के बाद अंकिता ने शुरु किया डेयरी फ़ार्म का काम, शुद्ध और केमिकल मुक्त दूध के व्यवसाय से खड़ी कर दी लाखों की कम्पनी : स्टार्टअप स्टोरी

हमारे समाज में ऐसी मानसिकता बनी हुई है कि अधिक पढ़ें-लिखें लोग अच्छी-खासी नौकरी करतें हैं और कम शिक्षा ग्रहण किए हुए लोग खेती-बाड़ी का काम करते हैं। जबकी ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। आज के समय में अधिक शिक्षित व्यक्ति भी अच्छी पैकेज वाली नौकरियों को ठोकर मारकर आधुनिक खेती और डेयरी फार्म की तरफ रुख मोड़ रहे हैं, और वे साबित कर रहे हैं कि सही दिशा में किया गया प्रयास हमेशा सफल होता है।

आज की यह कहानी भी एक ऐसी लड़की की है, जिसने IIM से MBA करने के बाद डेयरी फॉर्म के क्षेत्र में करियर आजमाया और यह साबित कर दिया कि किसी भी क्षेत्र में लगन से मेहनत किया जाएं तो इसमें भी अच्छी आमदनी कमाया जा सकता है।

कौन है वह लड़की ?

राजस्थान (Rajasthan) के अजमेर की रहने वाली अंकिता कुमावत (Ankita Kumawat) ने इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट कोलकाता (IIM Kolkata) से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की। उसके बाद उन्होंने 2014 तक कम्पनियों में काम किया। आरंभ में मन मुताबिक सैलरी और बेहतर सुविधा मिलने के वजह से वे अपने काम पर फोकस करने लगी, तभी अचानक उनके पिता की तबियत खराब होने की वजह से उन्हें पैतृक गांव आना पड़ा।

Ankita Kumawat started maatratav dairy farm and organic business after doing MBA from IIM Kolkata

पिता के व्यवसाय से जुड़ गईं

अंकिता (Ankita Kumawat) के पिता सरकारी कर्मचारी थे लेकिन स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद वे डेयरी व्यवसाय शुरू किए थे। अजमेर से गांव वापस आने के बाद उन्हें यह एहसास हुआ कि बड़ी बेटी होने के नाते उनका कर्तव्य बनता है कि वह अपने पिता के साथ रहे और पारिवारिक व्यवसाय में सहयोग करें। उसके बाद वे अपने पिता के व्यवसाय में जुड़ गई।

यह भी पढ़ें :- निरमा वाशिंग पाउडर के सफलता के पीछे छुपी है इस शख्स की कड़ी मेहनत, जो आज 25 हजार करोड़ का ब्राण्ड बन चुका है : मेहनत का फल

शुरु में आई अड़चने

आरंभ के दिनों में कई महीनों तक अच्छी आमदनी नहीं हुई लेकिन अन्किता ने हार नहीं माना। उनका मानना था कि एक सफल व्यवसाई के बनने के लिए कम से कम 1000 दिनों तक मेहनत करनी पड़ती है।

Ankita Kumawat started maatratav dairy farm and organic business after doing MBA from IIM Kolkata

ग्रामीणों को समझना बहुत बड़ी चुनौती थी

अंकिता ने पारंपरिक पैटर्न को तोड़ कर जैविक डेयरी और डेयरी उत्पादों की होम डिलीवरी की अवधारणा पेश की। उन्होंने जैविक सब्जियां, अनाज, आटा, शहद और मसाले आदि बेचना शुरु किया। सभी व्यवसाय की होम डिलीवरी हुई और धीरे-धीरे उनका व्यवसाय पैर पसारने लगा। अंकिता की कहती हैं कि उनके लिए सबसे बड़ी चुनौतियां थी ग्राहकों को समझाना कि उनका उत्पाद दूसरों से बेहतर कैसे हैं, क्योंकि उनके पास आने वाले ग्रामीण क्षेत्रों के ग्राहक गाय की स्वच्छता या दूध के स्वाद को न तो समझ्ते थे और ना ही कोई मह्त्व देते थे। ऐसे में उनको समझना बेहद कठिन था।

यह भी पढ़ें :- IIT की नौकरी छोड़ इन दो दोस्तों ने शुरु किया टेरेस गार्डनिंग का काम, छत पर क्विंटल भर सब्जी उगाने के साथ ही कमा रहे हैं लाखों का मुनाफा : Khetify

डेढ़ साल से कर रही हैं “मातृत्व डेयरी” नाम से डेयरी फार्म का कारोबार

“मातृत्व डेयरी” नाम के दो डेयरी अजमेर में 2 बीघा जमीन पर स्थित है। इस फॉर्म में कई प्रजाति की गाय और भैंस हैं, जिसमें देसी, होलिस्टन, जर्सी, पाइवाल और मुर्रा जैसी गाय के अलावा अन्य प्रकार की भैंसे शामिल हैं। यहां लगभग 100 गायें और भैंसे हैं, जिनसे प्रतिदिन 150 लीटर से 180 लीटर तक दूध निकलता है। इस फॉर्म में दूध को होलसेल और रिटेल दोनों तरीकों से बेचा जाता है। डेयरी के आसपास रेजीडेंट सोसाइटी के रहने वाले लोग खुद यहां आकर दूध ले जाते हैं, और लगभग 3 किलोमीटर के दायरे में डेयरी से जुड़े कुछ लोग दूध सप्लाई का काम करते हैं। मातृत्व डेयरी फॉर्म में दूध के अलावा मावा, मक्खन, पनीर तथा अन्य दूसरे उत्पाद भी बेचे जाते हैं लेकिन पनीर और मावा को आर्डर पर ही तैयार किया जाते हैं।

खेती को बढ़ावा दिया

अंकिता ने व्यवसाय को संचालित करने और उसे नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए अपने मूल स्थान पर व्यवस्थित तरीके से खेती की आधुनिक तकनीकों को अपनाया और भारत में खेती को बढ़ावा भी दिया। अन्किता ने मातृत्व डेयरी और जैविक खाद की स्थापना की।

Ankita Kumawat started maatratav dairy farm and organic business after doing MBA from IIM Kolkata

बिजनेस वुमन होने पर गर्व है

अंकिता कहती हैं कि, बिजनेस वुमन होने पर उन्हें गर्व है। एक समय था जब वह दूसरों के यहां कार्य करती थी लेकिन अब उन्हें खुशी है कि वह दूसरों को अपने यहां रोजगार मुहैया करा रही हैं। अंकिता के अनुसार, जैविक खेती और डेयरी उद्योग में अपार संभावनाएं हैं। उनका कहना है कि इस पेशे में आने वाले युवाओं का भविष्य उज्जवल दिखता है।

लोगों तक शुद्ध और केमिकल मुक्त दूध सप्लाई करना है लक्ष्य

अंकिता चाहती हैं कि उनके डेयरी का विस्तार अधिक-से-अधिक हो। वह अजमेर के अलावा आसपास के दूसरे शहरों में भी दूध का सप्लाई करना चाहती हैं। इसके लिए वह प्रोसेसिंग यूनिट लगाने की योजना बना रही हैं, जिससे सुदूर क्षेत्रों तक कच्चे दूध का सप्लाई किया जा सके। उनका और उनके टीम का लक्ष्य है लोगों को सही कीमत पर शुद्ध और केमिकल मुक्त दूध उप्लब्ध कराना। -Ankita kumawat from rajasthan started dairy farm and organic farm business after doing MBA from IIM Kolkata.

Shikha Singh
Shikha is a multi dimensional personality. She is currently pursuing her BCA degree. She wants to bring unheard stories of social heroes in front of the world through her articles.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

IIM से MBA करने के बाद अंकिता ने शुरु किया डेयरी फ़ार्म का काम, शुद्ध और केमिकल मुक्त दूध के व्यवसाय से खड़ी कर...

हमारे समाज में ऐसी मानसिकता बनी हुई है कि अधिक पढ़ें-लिखें लोग अच्छी-खासी नौकरी करतें हैं और कम शिक्षा ग्रहण किए हुए लोग खेती-बाड़ी...

मंदिर में गुजारनी पड़ी रातें, 25 रुपये की मजदूरी किए फ़िर अपने अथक प्रयास से बन गए IAS : मेहनत से लिखी सफलता की...

किसी ने बहुत सुन्दर बात कही है, " कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।" यदि पूरे जोश और जज्बे से कोशिश की जाए...

यदि घुमने का शौक रखते हैं तो इन जगहों पर करिए ट्रिप प्लान, कम वजट में खुबसूरत यादें मिलेंगी : Nature Beauty

सभी की ख्वाइश होती है कि वे अपनी रोजमर्रा की जिंदगी से फुर्सत के कुछ पल निकालकर प्रकृति के साथ समय व्यतीत करें। यदि...

पढ़ाई के दौरान ही करनी पड़ी 50 रुपये की मजदूरी, अथक प्रयास से बन गए आर्मी ऑफिसर : प्रेरणा

किसी भी व्यक्ति के सफलता के पीछे किसी न किसी के मार्गदर्शन का अहम रोल होता है। कई बार लोग सही मार्गदर्शन के वजह...