Tuesday, May 11, 2021
Home प्रेरणा बिहार की एक छोटी बच्ची ने अपने हुनर से भौगोलिक तत्थों की...

बिहार की एक छोटी बच्ची ने अपने हुनर से भौगोलिक तत्थों की जानकारी जुटाने का यंत्र बनाया

लड़कियों के बारे में अक्सर हम यहीं सुनते आए हैं कि उसे खाना बनाने आता है, सिलाई-बुनाई आता तो वह अच्छी मानी जाती है लेकिन अब लड़कियों की जिंदगी केवल खाना बनाने तक ही सीमित नहीं है बल्कि वो भी अपने सपनों को पूरा करने के लिए पढ़ रही है और देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में अपने देश का नाम रौशन कर रही है। कुछ ऐसी ही कहानी बिहार की बेटी अंशु की है जिसने असम्भव को संभव कर दिखया है। बिहार की इस वैज्ञानिक बेटी ने पूरी दुनिया में एक मिसाल कायम की।

बिहार की रहने वाली बेटी ने बहुत ही कम उम्र में बड़ा मुकाम हासिल किया है। अंशु ने रेडियो स्पेक्ट्रो पोलरीमिटर नामक यंत्र को विकसित किया है। यह यंत्र सूर्य के रहस्यों को समझने में सहायक विवरण जुटा रहा है। इस यंत्र से पृथ्वी के तापमान, मौसम, जनजीवन और ऐसे महत्वपूर्ण विषयों में पूर्वानुमान लगाया जा सकता है।

अंशु पूर्वी चंपारण जिले के रक्सौल अनुमंडल की रहने वाली है। वह 2012 में जयपुर से इंजीनियरिंग के बाद इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ एस्ट्रोफिजिक्स, बेंगलूर से प्रो. आर. रमेश और डॉ. सी. कार्थीरावन के निर्देशन में सोलर रेडियो विकीकरण और उसके प्रभाव पर शोध किया। वह 2019 में पीएचडी पूरी की इसके अलावा वह नीदरलैंड्स इंस्टिट्यूट फॉर रेडियो एस्ट्रोनॉमी में वह सूर्य अध्ययन से प्रोजेक्ट पर काम कर चुकी है।

radio polrimeter

अंशु बताती है कि उन्होंने रेडियों वेवलेंथ, कोरोनल मास इजेक्शन और उससे जुड़े पांच बड़े विस्फोटों का अध्ययन किया है। इन विस्फोटों के कारण हुए रेडियो एक्टिव उतसर्जन और चुंबकीय तरंगो पर इसके प्रभाव के अलावा सूर्य के सतह पर मैगनेटिक फिल्ड में आये परिवर्तन को समझने पर उनका शोध केंद्रित रहा और अब वह सूर्य पर होने वाले इन स्थलीय परिवर्तनों का अध्ययन कर रही है। इस शोध में वह पता लगाई है कि जब सूर्य की मैगनेटिक फिल्डलाइन टूटती या जुड़ती है तो उसकी सतह पर विस्फोट होते हैं। वह करोनल मॉडलिंग से डाटा संग्रहण के जरिये वह उन सम्भावनाओं को जानने की कोशिश में है, जिससे सूर्य की सतह पर होने वाली इन घटनाओं के कारण और समय की सही पता लगाया जा सके।

शोधकर्ताओं की तो वह यूरोपियन शोध परिषद से मिले अनुदान से फरवरी 2020 से हेलसिंकी विश्वविद्यालय, फिनलैंड में शोधरत है। वहाँ वह कोरोनल मास इजेक्शन के नाम से ज्ञात सूर्य पर सबसे बड़े विस्फोट की मॉडलिंग पर कार्य कर रही हैं।

anshu

सूर्य एक ऐसा ग्रह है जिसके बारे में बड़े-बड़े वैज्ञानिक खोज करने में लगे है, ऐसे में एक छोटे से गांव की बेटी ने इतनी बड़ी शोध करके अपना देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को दिखा दिया कि हौसला हो तो कोई भी काम असम्भव नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

एक ऐप बनाकर कायम की सफलता। महज 13 वर्ष की उम्र में बने CEO

कहते है कि कुछ करने का हौसला हो तो दुनिया की कोई भी ताकत उसे रोक नहीं सकती। आज बात एक ऐसे हीं बेहद...

बिहार की एक छोटी बच्ची ने अपने हुनर से भौगोलिक तत्थों की जानकारी जुटाने का यंत्र बनाया

लड़कियों के बारे में अक्सर हम यहीं सुनते आए हैं कि उसे खाना बनाने आता है, सिलाई-बुनाई आता तो वह अच्छी मानी जाती है...

बिहार: जहां का खान-पान , वेश-भूषा से लेकर सांस्कृतिक सौन्दर्यता तक विश्व विख्यात है। क्लिक कर पढ़ें पूरी कहानी।

भारत देश का बिहार राज्य जहाँ की संस्कृति, संस्कार और कला की एक अलग हीं पहचान है। यहां की संस्कृति , सभ्यता काफी प्रसिद्ध...

एक गरीब किसान के बेटे ने अपनी काबिलियत से खङी कर दी देश की अग्रणी दवा कम्पनी “एल्केम”

दुनिया में कुछ लोग ऐसे होते है, जिनकी कहानी हमें अपने सपनों को पूरा करने की ताकत देती है। एक ऐसे व्यक्ति की कहानी...