Monday, July 26, 2021
Home Uncategorized IIT की नौकरी छोड़ इन दो दोस्तों ने शुरु किया टेरेस गार्डनिंग...

IIT की नौकरी छोड़ इन दो दोस्तों ने शुरु किया टेरेस गार्डनिंग का काम, छत पर क्विंटल भर सब्जी उगाने के साथ ही कमा रहे हैं लाखों का मुनाफा : Khetify

खेती बाड़ी से लगातार हो रहे मुनाफे की वजह से नौकरीपेशा लोग भी खेती की तरफ काफी आकर्षित हो रहे हैं। सभी पारंपरिक और रासायनिक खेती से मुंह मोड़ कर जैविक खेती की तरफ रुख कर रहें हैं जिससे स्वास्थ्य को भी हानी न पहुंचे और मुनाफा भी अच्छा हो। कई प्रोफेशनल्स भी स्मार्ट किसान बनने की राह पर अग्रसर हैं। स्मार्ट किसान बनने के लिए कई लोगों ने IIT और MNC की अच्छी-खासी नौकरी को छोड़ कर खेती कार्य से जुड़ रहे हैं तथा उससे अच्छा मुनाफा भी कमा रहे हैं।

इस लेख के माध्यम से हम आपको ऐसे दो दोस्तों जे बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने IIT की नौकरी छोड़ कर खेती करने का निर्णय लिया और उनका यह निर्णय सफल भी रहा। आज वे लाखों की आमदनी कमा रहे हैं।

Kaustubh Khare and Sahil Parikh are doing terrace gardening with hydroponic method, khetify

कौन हैं वे दो दोस्त?

इसी लिस्ट में भारत के दो युवा कौस्तुभ खरे (Kaustubh Khare) और साहिल पारिख (Sahil Parikh) का नाम भी शामिल है। ये दोनों दोस्त IIT खड़कपुर से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की हैं, लेकिन इन दोनों दोस्तों के ऊपर खेती का ऐसा जुनून चढा कि जौविक खेती के लिए अपनी जमी-जमाई नौकरी तक छोड़ दी। ये दोनों छत पर जैविक तरीके (Organic Farming) से सब्जी उगा रहे हैं।

Kaustubh Khare and Sahil Parikh are doing terrace gardening with hydroponic method, khetify

खेती करने के लिए अपनाई हाइड्रोपोनिक विधि

कौस्तुभ और साहिल अपने छत पर 700 से 800 किलोग्राम सब्जियां उगाते हैं और उनका यह दावा रहता है कि उन्होंने ये सब्जियां जैविक तरीके से उगाई है। कम जगह में भी अच्छी पैदावार हो सके और स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक हो इसके लिए दोनों दोस्तों पारम्परिक खेती छोड़ हाइड्रोपोनिक्स विधि से खेती करते हैं। इसे अपनाने के पीछे एक यह भी वजह है कि इस विधि में मिट्टी और खाद की आवश्यकता नहीं पड़ती है जिससे छत पर भी भार कम पड़ेगा। Organic Farming

कौस्तुभ (Kaustubh) के अनुसार, हाइड्रोपोनिक विधि (Hydroponic Method) से खेती करने के लिए उन्होंने सबसे पहले पौधे लगाने के लिए क्यारियाँ बनाई, जिससे छत पर पानी नहीं गिरे। इस विधि में पौधे में खाद के जगह पानी में ही कुछ उर्वरक डाले जाते हैं, जिससे पौधों की जड़ों तक पोषण मिलता रहे और उत्पादन भी अच्छा हो।

Kaustubh Khare and Sahil Parikh are doing terrace gardening with hydroponic method, khetify

मात्र 2 हाजर से शुरु होकर आज मुनाफा लाखों में

दोनों दोस्त अपनी खेती के फैसले से काफी खुश हैं और इस काम में सफलता भी प्राप्त कर रहे हैं। साथ ही जैविक तरीके से उगाई गई सब्जियों का आन्नद भी ले रहे हैं। कौस्तुभ और साहिल ने अपने छत पर भिन्डी, टमाटर, मेथी, पालक, बैगन, पोई का साग, हरी मिर्च इत्यादि के पौधे लगाएं हैं। कौस्तुभ बताते हैं कि उन्होंने सिर्फ 2 हजार रुपये से अपने छत पर हाइड्रोपोनिक विधि से खेती की शुरुआत की थी, लेकिन आज के समय में उनकी आमदनी लाखों में है।

कार्यों को दिया खेतिफाई (Khetify) का नाम

इन दोनों दोस्तों ने अपने इस कार्य को खेतीफाई (Khetify) का नाम दिया है, जिसका ऊद्देश्य है जन-जन तक खेती की जानकारी पहुंचाना। इसके लिए उन्होंने खेतीफाई टीम का आयोजन किया है जिसके द्वारा स्कूलों, कार्यालयों तथा सामाजिक संस्थानों पर खेती के बारे में बताया जाता है, जिससे लोग खुद के लिए फल, फुल और सब्जियां उगाने के लिए प्रेरित हो सके।

Kaustubh Khare and Sahil Parikh are doing terrace gardening with hydroponic method, khetify

बच्चों को खेती के बारे में जानकारी दिया जाता है

उनकी यह टीम बच्चों को खेती के बारे में जानकारी देता है, जिसमें बच्चों को खेती के गुड़, पौधों की पहचान, खाद, बीज तथा पोषण इत्यादि के बारे में बताया जाता है। साथ ही उनको इस बात के लिए प्रेरित भी किया जाता है कि वे आगे चलकर खेती में भी अपना करियर चुन सके।

खेती का चयन भी करियर के लिए है फायदेमंद

खेती को करियर के लिए चुनाव करना भी कई प्रकार से फायदे देगा, उदाहरण के लिए रासायन मुक्त फल और सब्जियां प्राप्त हो सकेंगे, जिससे आपकी सेहत भी ठीक रहेगी और आप आमदनी के साथ-साथ लोगों को रोजगार भी दे सकेंगे। साथ ही आत्मनिर्भर भारत का उदाहरण पेश कर सकते है। -Kaustubh Khare and Sahil Parikh are doing terrace gardening with hydroponic method

Shikha Singh
Shikha is a multi dimensional personality. She is currently pursuing her BCA degree. She wants to bring unheard stories of social heroes in front of the world through her articles.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

IIM से MBA करने के बाद अंकिता ने शुरु किया डेयरी फ़ार्म का काम, शुद्ध और केमिकल मुक्त दूध के व्यवसाय से खड़ी कर...

हमारे समाज में ऐसी मानसिकता बनी हुई है कि अधिक पढ़ें-लिखें लोग अच्छी-खासी नौकरी करतें हैं और कम शिक्षा ग्रहण किए हुए लोग खेती-बाड़ी...

मंदिर में गुजारनी पड़ी रातें, 25 रुपये की मजदूरी किए फ़िर अपने अथक प्रयास से बन गए IAS : मेहनत से लिखी सफलता की...

किसी ने बहुत सुन्दर बात कही है, " कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।" यदि पूरे जोश और जज्बे से कोशिश की जाए...

यदि घुमने का शौक रखते हैं तो इन जगहों पर करिए ट्रिप प्लान, कम वजट में खुबसूरत यादें मिलेंगी : Nature Beauty

सभी की ख्वाइश होती है कि वे अपनी रोजमर्रा की जिंदगी से फुर्सत के कुछ पल निकालकर प्रकृति के साथ समय व्यतीत करें। यदि...

पढ़ाई के दौरान ही करनी पड़ी 50 रुपये की मजदूरी, अथक प्रयास से बन गए आर्मी ऑफिसर : प्रेरणा

किसी भी व्यक्ति के सफलता के पीछे किसी न किसी के मार्गदर्शन का अहम रोल होता है। कई बार लोग सही मार्गदर्शन के वजह...