Tuesday, May 11, 2021
Home प्रेरणा शिवांगी सिंह: भारत की पहली महिला पायलट बन पेश की मिसाल ,...

शिवांगी सिंह: भारत की पहली महिला पायलट बन पेश की मिसाल , युवा लें रहे प्ररेणा !

बिहार जहाँ आज भी लड़कियों को आगे बढ़ने , पढाई करने से रोका जाता है। ऐसे महौल को देखते हुए दृढ निश्चय कर देश की पहली महिला पायलट बनने वाली शिवांगी सिंह ने बिहार का गौरव और मान बढाया है। कहा जाता है की अगर मन में हौसला हो तो आसमान की बुलंदियों को छुआ जा सकता है। शिवांगी सिंह आज बिहार की हर लड़कियों के लिए एक प्रेरणा बन गई हैं। शिवांगी सिंह के इस कामयाबी पर पूरे बिहार को उन पर गर्व है। आईए जानते हैं उनके बारे में…

कहा हुआ इनका जन्म:-


शिवांगी सिंह का जन्म 15 मार्च 1995 में बिहार के मुजफ्फरपुर में हुआ था। इनके पिता हरिभूषण सिंह उच्च विद्यालय में प्रभारी प्रधानाध्यापक हैं। और इनके माता प्रियंका एक गृहणी हैं। शिवांगी सिंह अपने भाई- बहन में सबसे बड़ी हैं। ये दो बहन और एक भाई हैं।

shivangi singh

कैसे पूरी की शिक्षा:-


शिवांगी सिंह ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा की शुरुआत मुजफ्फरपुर के डी ए वी पब्लिक स्कूल से की। वे बचपन से हीं पढने में मेधावी रहीं। वे हमेशा से कुछ बेहतर करना चाहती थीं। उन्होंने मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से बी टेक किया। बी टेक की पढ़ाई के दौरान उन्हें एसएसबी में जाने की इच्छा हुई जिसके बाद वह उसके लिए तैयारी करने लगीं। उन्होंने एस एस बी की परीक्षा दी लेकिन वे उस परीक्षा में असफल रही। उस असफलता से बिना निराश हुए शिवांगी आगे बढ़ती रहीं और फिर उन्होंने मालवीय नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में एम टेक में दाखिला लिया। पढाई करते हुए उनका एसएसबी में जाने का लक्ष्य अडिग रहा और वर्ष 2018 में एक बार फिर से उन्होंने एस एस बी का परीक्षा दिया और इस बार वो परीक्षा में उतीर्ण हुईं।

कैसी मिली कैरियर में सफलता:-


शिवांगी 2 दिसंबर 2019 को भारतीय नौ सेना की पहली महिला पायलट बनी। सबसे पहले शिवांगी सिंह ने कोच्चि में इंडियन नेवल एयर स्क्वार्डन 550 के साथ डोनिर्यर 228 एयरक्राफ्ट को उड़ाना सिखा है। डोनिर्यर 228 एयरक्राफ्ट नौ सेना में पेट्रोलिंग करने के काम करता है। शिवांगी सिंह बताती हैं कि जब हमें पहली बार अकेले जहाज ले जाने को कहा गया तब हमें बहुत डर सा लगा लेकिन जब एक बार में टेक-ऑफ कर लिया तो सारा डर खत्म हो गया। शिवांगी सिंह का सपना है की वह आगे चल कर P81 विमान उड़ाना चाहती हैं। P81 एक बड़ा एयरक्राफ्ट है। इसकी रेंज ज्यादा है और यह लम्बी समय तक उड़ सकता है।

शिवांगी सिंह का यह सफल कदम बिहार के युवाओं के लिए एक मिसाल है। उन्होंने देश की पहली नौसेना पायलट बनकर खासकर बिहार की अन्य लड़कियों के लिए प्रेरणा बनी हैं और यह मिसाल कायम की है कि लड़कियां भी बहुत कुछ कर सकती हैं। अपनी सफलता की परचम लहरा सकती हैं।

shivangi with p81 aircraft
Rajnikant Jha
Rajnikant Jha is a graduate lad from Bihar. He is looking forward to understand difficulties in rural part of India. Through Logically , he brings out positive stories of rural India and tries to gain attention of people towards 70% unnoticed population of country.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

सबसे लोकप्रिय

एक ऐप बनाकर कायम की सफलता। महज 13 वर्ष की उम्र में बने CEO

कहते है कि कुछ करने का हौसला हो तो दुनिया की कोई भी ताकत उसे रोक नहीं सकती। आज बात एक ऐसे हीं बेहद...

बिहार की एक छोटी बच्ची ने अपने हुनर से भौगोलिक तत्थों की जानकारी जुटाने का यंत्र बनाया

लड़कियों के बारे में अक्सर हम यहीं सुनते आए हैं कि उसे खाना बनाने आता है, सिलाई-बुनाई आता तो वह अच्छी मानी जाती है...

बिहार: जहां का खान-पान , वेश-भूषा से लेकर सांस्कृतिक सौन्दर्यता तक विश्व विख्यात है। क्लिक कर पढ़ें पूरी कहानी।

भारत देश का बिहार राज्य जहाँ की संस्कृति, संस्कार और कला की एक अलग हीं पहचान है। यहां की संस्कृति , सभ्यता काफी प्रसिद्ध...

एक गरीब किसान के बेटे ने अपनी काबिलियत से खङी कर दी देश की अग्रणी दवा कम्पनी “एल्केम”

दुनिया में कुछ लोग ऐसे होते है, जिनकी कहानी हमें अपने सपनों को पूरा करने की ताकत देती है। एक ऐसे व्यक्ति की कहानी...